Home जयपुर नाहरगढ़ बायो पार्क : टूट गई तारा और कैलाश की जोड़ी

नाहरगढ़ बायो पार्क : टूट गई तारा और कैलाश की जोड़ी


वन्यजीवों की कब्रगाह बन चुके नाहरगढ़ बायो पार्क में तकरीबन एक साल पहले आए नर शेर कैलाश ने आज दम तोड़ दिया और तारा को अकेला कर दिया। कैलाश को जोधपुर से लाया गया था। पैदाइश से ही पिंजरे में रहने वाले कैलाश को यहां आकर आजादी का महत्व पता चला और उसकी जोड़ी यहां तारा के साथ बनी। तारा ने उसे जंगल में रहना सिखाया और दोनों को एक दूसरे का सहारा मिला। दोनों के साथ आने से इनका कुनबा बढऩे की भी संभावना बन गई थी जो अब टूट चुकी है। इन दोनों की जोड़ी बायो पार्क स्थित लॉयन सफारी में आने वाले पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई थी। लॉयन सफारी में तेजस,त्रिपुर और तारा बचे हैं।

आईवीआरआई भेजे सैम्पल
लॉयन सफारी में रहवास करने वाले कैलाश की उम्र चार साल थी। विभागीय अधिकारियों के मुताबिक कैलाश बिल्कुल स्वस्थ था, शाम पांच बजे खाना खाने के बाद शाम को ही तकरीबन 6.20 बजे उसकी तबीयत खराब होने लगी, कैलाश के उल्टी करने पर उसका उपचार किया गया लेकिन आज उसकी मृत्यु हो गई। तीन पशु चिकित्सकों के मेडिकल बोर्ड ने शव का परीक्षण कर विभिन्न अंगों के सैम्पल लिए जिन्हें आईवीआरआई बरेली भिजवाया गया है। मेडिकल बोर्ड ने मृत्यु का कारण कार्डियक अरेस्ट बताया है। नाहरगढ़ बायो पार्क प्रशासन ने कैलाश का अंतिम संस्कार कर दिया है।

लगातार हो रही वन्यजीवों की मौत
नाहरगढ़ बायो पार्क में कैलाश से पूर्व भी लगातार कई वन्यजीवों की मौत हो चुकी है। लगातार हो रही मौतों ने वन्यजीव प्रेमियों को झकझोर कर रख दिया है लेकिन विभागीय अधिकारियों पर इसका कोई असर नहीं है। आपको बता दें कि इससे पूर्व सफेद बाघ राजा की मौत भी हो चुकी है। 4 अगस्त को राजा से दम तोड़ा था, उसके यूरीन में खून आ रहा था। इससे पूर्व 9 और 10 जून को बायो पार्क में बिग कैट फैमिली के दो सदस्यों की मौत हो गई थी। टाइगर रूद्र की 9 जून को मौत हो गई थी और अगले ही दिन 10 जून को शेर सिद्धार्थ की मृत्यु हो गई। दोनों में एक ही बीमारी के लक्षण मिले थे। उन दोनों ने भी इसी तरह से खाना पीना बंद कर दिया था। उन दोनों की मौत की वजह लेप्टोस्पायरोसिस नामक बीमारी को माना गया था जो कि चूहों और नेवलों के पेशाब से होती है। दोनों के सैम्पल आईवीआरआई बरेली भेजे गए थे जहां से अब तक उनकी रिपोर्ट नहीं आई है।
गत वर्ष 19 सितंबर को शेरनी सुजान, 21 को शावक रिद्धि और 26 सितंबर को सफेद बाघिन सीता की मौत हो गई थी। शेरनी तेजिकी की मौत भी नाहरगढ़ बायो पार्क में हुई थी और उसकी मौत की वजह लकवे को माना गया। सफेद बाघिन रंभा और उसके दोनों शावक भी इस प्रकार मृत्यु को प्राप्त हुए थे।

संदेह में चिकित्सकों की भूमिका
जिस तरह जानवरों की मौत हो रही है उसको देखते हुए यहां डॉक्टर की भूमिका और मॉनिटरिंग पहले से ही सवालों में हैं। विभागीय अधिकारी लगातार इस मौतों को लेकर लीपापोती करने में लगे हुए हैं। किसी भी अधिकारी पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है।



Source link

Must Read

Navratri 9th day maa siddhidatri सफलता—समृद्धि देती हैं मां सिद्धिदात्री, इन स्तुति मंत्रों से प्राप्त करें माता की कृपा

जयपुर. नवदुर्गाओं में अंतिम रूप मां सिद्धिदात्री हैं जिनकी उपासना नवरात्र के नौवें दिन की जाती है। ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं...

aaj ka rashifal 25 october 2020 सिंह वालों के हर काम सफल, वृश्चिक—धनु वालों को भी लाभ, जानिए आपको क्या सौगात देंगे सूर्यदेव

जयपुर. 25 अक्टूबर को महानवमी है और विजयादशमी भी है. इसके साथ ही रविवार को कई अन्य शुभ योग भी बन रहे हैं।...

Aaj Ka Panchang 25 october 2020 खेल, विज्ञान, कंप्यूटर, इंजीनियरिंग, हार्ड वेयर, प्रापर्टी संबंधित काम करने का सबसे अच्छा समय

जयपुर. आश्विन शुक्ल पक्ष की उदया तिथि नवमी आज सुबह 7 बजकर 42 मिनट तक ही रहेगी, उसके बाद दशमी तिथि लग जाएगी।...

Maa siddhidatri Favourite Sweets Colours Flowers मां सिद्धिदात्री को प्रिय है कमल पुष्प, जानिए उनके मनपसंद मिष्ठान्न, रंग और पूजा विधि

जयपुर. नवरात्र के अंतिम दिन नवमी को मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। सभी सिद्धियों—निधियों के साथ देवी सिद्धिदात्री ही नवरात्र उपासना...