Home अध्यात्म वैशाख माह 9 अप्रैल से 7 मई तक, इस महीने तीर्थ स्नान...

वैशाख माह 9 अप्रैल से 7 मई तक, इस महीने तीर्थ स्नान और दान से खत्म हो जाते हैं पाप


दैनिक भास्कर

Apr 08, 2020, 06:23 PM IST

हिंदू कैलेंडर में दूसरे महीने का नाम वैशाख है। इस महीने पूर्णिमा तिथि पर विशाखा नक्षत्र होने से इसे वैशाख मास कहा जाता है। इस महीने की शुरुआत 9 अप्रैल से हो रही है जो कि 7 मई तक रहेगा। ग्रंथों में इसे पुण्य देने वाला महीना कहा गया है। महाभारत,स्कंद पुराण और पद्म पुराण एवं निर्णय सिंधु ग्रंथ में वैशाख माह का महत्व बताया गया है। इन ग्रंथों के अनुसार ये भगवान विष्णु का प्रिय महीना है। इसमें सुबह सूर्योदय से पहले नहाने का महत्व बताया है। इसके अलावा वैखाख माह में तीर्थ या गंगा स्नान करने से भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं। 

पूजा विधि

  1. इस महीने में सूर्योदय से पहले उठकर नहाना चाहिए।
  2. तीर्थ स्नान नहीं कर सकते तो घर पर ही पानी में थोड़ा सा गंगाजल मिलाकर नहा सकते हैं।
  3. हर दिन भगवान विष्णु की पूजा करें और शिवलिंग पर जल चढ़ाएं। 
  4. भगवान विष्णु को तुलसी पत्र और पीपल के पेड़ को जल चढ़ाएं।
  5. इसके बाद ही दूध या अन्न लेना चाहिए।
  6. हर दिन जल या थोड़े से अन्न का दान करना चाहिए।
  7. संभव हो तो हर दिन एक समय भोजन करें। महाभारत के अनुशासन पर्व के अनुसार ऐसा करने से हर तरह के पाप खत्म हो जाते हैं।

महर्षि नारद के अनुसार वैशाख माह का महत्व

नारद जी के अनुसार ब्रह्मा जी ने इस महीने को अन्य सभी महीनों में सबसे श्रेष्ठ बताया है। उन्होंने इस महीने को सभी जीवों को मनचाही फल देने वाला बताया है। नारद जी के अनुसार ये महीना धर्म, यज्ञ, क्रिया और तपस्या का सार है और देवताओं द्वारा पूजित भी है। उन्होंने वैशाख माह का महत्व बताते हुए कहा है कि जिस तरह विद्याओं में वेद, मन्त्रों में प्रणव अक्षर यानी ऊं, पेड-पौधों  में कल्पवृक्ष, कामधेनु, देवताओं में विष्णु, नदियों में गंगा, तेजों में सूर्य, शस्त्रों में चक्र, धातुओं में सोना और रत्नों में कौस्तुभमणि है। उसी तरह अन्य महीनों में वैशाख मास सबसे उत्तम है। इस महीने तीर्थ स्नान और दान से जाने-अनजाने में किए गए पाप खत्म हो जाते हैं।



Source link

Must Read

सर्दी से मिली राहत, माउंट आबू 3.4 डिग्री सेल्सियस

प्रदेश में जयपुर सहित कुछ हिस्सों में शुक्रवार को सर्दी से कुछ राहत मिली है। शुक्रवार को पहले की तुलना में आसमान साफ...

स्टार्टअप्स शुरू करने वालों से सीधे बातचीत करेंगे विशेषज्ञ

जयपुरस्टार्टअप शुरू करने वाले युवाओं को समस्याओं के समाधान के लिए ज्यादा तनाव लेना नहीं पड़ेगा। अभी तक प्लेटफॉर्म और गाइडेंस नहीं मिलने...

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर डिग्री डिस्ट्रीब्यूशन सेरेमनी

जयपुरजेके लक्ष्मीपत यूनिवर्सिटी का पहला ई-कन्वोकेशन एवं फाउंडर डे का भव्य आयोजन ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर नए संकल्पों के साथ संपन्न हुआ। आईआईटी मुम्बई...

बीटेक फस्र्ट ईयर स्टूडेंट्स के सिलेबस में होगी 30 फीसदी कटौती: आरटीयू वीसी

राजस्थान टेक्निकल यूनिवर्सिटी से संबद्ध बीटेक फस्र्ट ईयर के सिलेबस में कोविड के चलते 30 फीसदी तक कटौती की जाएगी। ये बात आरटीयू...