Home दुनिया ऑक्सीजन लगने के बावजूद हॉस्पिटल से काम कर रहे बोरिस जॉनसन, सांसद...

ऑक्सीजन लगने के बावजूद हॉस्पिटल से काम कर रहे बोरिस जॉनसन, सांसद बोले- पीएम अपना काम हैंडओवर करें, चर्चिल न बनें


  • ब्रिटेन के मंत्रियों और सांसदों ने काम हैंडओवर करने और पर्याप्त नींद लेने की सलाह दी
  • जॉनसन को पॉजिटिव पाए जाने के 10 दिन बाद हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है

दैनिक भास्कर

Apr 06, 2020, 04:04 PM IST

लंदन. कोरोनावायरस के संक्रमण से जूझ रहे ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनस को उनके आवास डाउनिंग स्ट्रीट के पास ही सेंट थॉमस हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। जॉनसन की तबियत खराब होने की वजह से उन्हें ऑक्सीजन तक लगानी पड़ी है। हालांकि, इन हालातों में भी वह लगातार काम कर रहे हैं। ऐसे में ब्रिटेन के मंत्रियों ने उन्हें चर्चिल नहीं बनने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि पीएम अपना काम हैंडओवर करें और पर्याप्त नींद लें। बता दें कि विन्सटन चर्चिल को द्वितीय विश्व युद्ध का हीरो माना जाता है और पीएम जॉनसन उनसे खासा प्रभावित हैं।
27 मार्च को बोरिस जॉनसन की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उन्होंने खुद को आइसोलेट कर लिया था। 10 दिन बाद रविवार रात उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। हॉस्पिटल में उन्हें ऑक्सीजन लगाई गई है। बताया गया है कि बीमार होने के बावजूद बहुत ज्यादा काम करके उन्होंने अपने स्वास्थ्य को खतरे में डाला है।

सांसदों ने की काम हैंडओवर करने की मांग
ब्रिटेन के कई सासंदों ने पीएम जॉनसन से काम हैंडओवर करने की मांग की है। एक सांसद ने कहा कि वह खुद को अपने हीरो विन्सटन चर्चिल की तरह दिखाना चाह रहे हैं। उन्हें ऐसे में आराम करना चाहिए। एक सासंद ने कहा कि जॉनसन को द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान किए गए चर्चिल के काम की तरह नकल नहीं करनी चाहिए। उन्हें दूसरे कैबिनेट मंत्री को कोरोनावायरस को लेकर देश की जिम्मेदारी देनी चाहिए। हालांकि, उनके डिप्टी डोमिनिक रैब रोज कोरोनावायरस क्राइसिस कमेटी की बैठक ले रहे हैं। एक सासंद ने कहा कि जॉनसन वीडियो कॉन्फ्रेंस में बहुत थके दिखते हैं। इससे देश को कोई प्रेरणा नहीं मिलेगी। जॉनसन ने चर्चिल पर कई किताबें लिखी हैं और वह उन जैसा ही बनना चाहते हैं। जॉनसन को बस बोरिस जॉनसन बने रहने की जरूरत है। वह किसी की कॉपी न करें। 

एक हफ्ते से फीवर से जूझ रहे हैं जॉनसन
क्वारैंटाइन के दौरान जॉनसन ने ट्विटर पर वीडियो पोस्ट किया था। इस वीडियो में वह बहुत थके लग रहे थे। उन्होंने बताया कि उन्हें अभी भी हाई फीवर है। विशेषज्ञों ने बताया कि जब हाई फीवर एक हफ्ते से ज्यादा रहता है तो निमोनिया जैसी बीमारी और खतरनाक हो जाती है। दावा किया गया है कि जॉनसन कॉन्फ्रेंस के दौरान बहुत खांसी भी आ रही थी। इसके बाद उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। उनकी हाउसिंग सेक्रेटरी रॉबर्ट जेनरिक ने कहा कि जॉनसन बहुत कड़ी मेहनत कर रहे थे और उन्हें उम्मीद है कि वह जल्द ही डाउनिंग स्ट्रीट में वापस आएंगे। वहीं, कोरोनावायरस से उबर कर आईं स्वास्थ्य मंत्री नडाइन डोरिस ने कहा कि प्रधानमंत्री को पर्याप्त नींद लेने और आराम करने की जरूरत है। ब्रिटेन में सोमवार तक संक्रमण के 47,806 मामले आ चुके हैं और 4,934 लोगों की मौत हो चुकी है।

द्वितीय विश्वयुद्ध के हीरो और भारत के लिए विलेन रहे हैं चर्चिल
विन्सटन चर्चिल  द्वितीय विश्वयुद्ध, 1940-1945 के समय ब्रिटेन के प्रधानमंत्री थे। वह सेना में अधिकारी भी रह चुके थे। वह एकमात्र प्रधानमंत्री थे, जिन्हें नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान उन्होंने ब्रिटिश सेना में अहम जिम्मेदारी संभाली थी। उन्हें विश्व युद्ध का हीरो बताया जाता है। इसके साथ ही विन्सटन की भारत के प्रति रवैया बहुत खराब था। 1943 में बंगाल का अकाल उन्हीं की देन था। उन्होंने अनाज को ब्रिटिश सेना के लिए बचा कर रखा था और भूखों को तड़पकर मरने दिया। भारत की आजादी के पहले उन्होंने ब्रिटेन की संसद में कहा था कि अंग्रेजों ने भारत छोड़ तो सत्ता दुष्ट और बदमाशों के हाथ में चली जाएगी।



Source link

Must Read

उच्च विद्युत क्षमता के तार की चपेट में आई बस, तीन की मौत, ​कई घायल

जयपुर। जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में दिल्ली रोड पर आज सवेरे भीषण अग्निकांड हो गया। ग्यारह हजार केवी का तार टूटकर पहले तो वोल्वो...

बेटी बोली, आरयूएचएस में ऑक्सीजन आपूर्ति ठप होने से पिता की मौत, 6 अन्य की भी मौत का आरोप

जयपुर। प्रदेश के सबसे बड़े कोविड डेडिकेटेड अस्पताल आरयूएचएस में गुरुवार तड़के एक मरीज की मौत हो गई। इसको लेकर परिजनों ने आरोप...

जंक्शन पर पहली बार इलेक्ट्रिक इंजन से दौड़ी ट्रेन, 115 किमी की रही रफ्तार

जयपुर। इलेक्ट्रिक इंजन लगाकर ट्रेन दौड़ाने के साथ ही दो दिन से चल रहा इलेक्ट्रिक ट्रैक का सीआरएस निरीक्षण पूरा हो गया हैं।...

राजस्थान पहुंची दिल्ली की आग, जाने क्यों मंडरा रहा खतरा

- सिंधु बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर पर किसानों पर हल्का बल प्रयोगजयपुर। केंद्र सरकार की ओर से बनाए गए तीन कृषि कानूनों के...